ज़ख्म कुछ ऐसे थे नींद तो आई



दिल टूट कर ऐसा हुआ की आँख से न रोया गया,
ज़ख्म कुछ ऐसे थे नींद तो आई,
पर रात में सोया न गया.

Comments

Popular posts from this blog

मेरी जान के गोरे हाथों पे मेहँदी को लगाया होगा

दिल चाहता है ज़माने से छुपा लूँ तुझको !