खुशियों से नाराज़ है मेरी ज़िन्द्दगी



खुशियों से नाराज़ है मेरी ज़िन्द्दगी,
प्यार का मोहताज है मेरी ज़िन्द्दगी,
हंस लेते है दुनिया को दिखाने के लिए,
वरना दर्द की एक खुली किताब है मेरी ज़िन्द्दगी.

Comments

shayari said…
Ishq ke rashto me judai na mili hoti,
Hume Pyaar me ye bewafai na mili hoti,
khush hote hum bhi auro ki tarah,
Agar hume unse ye ruswai na mili hoti

Popular posts from this blog

मेरी जान के गोरे हाथों पे मेहँदी को लगाया होगा

दिल चाहता है ज़माने से छुपा लूँ तुझको !