कभी थी मिलने की तमन्ना आपसे



आज न जाने क्यों आँखों में आँसू आ गया?
लिखते लिखते वो ख़्वाब याद आ गया?
कभी थी मिलने की तमन्ना आपसे...
न जाने क्यू ,आंसुओ में आपकी तस्वीर बन गयी.

Comments

info.com said…
सोचा बहुत सोचा

कुरसी पैर बैठ के सोचा ?

बीस्तर पर लेट के सोचा ?


टेबल पर चढ़ के सोचा ?

Computer पर ONLINE होते हुए भी सोचा ?

कीताबो में घुस कर सोचा ?

रात को मोर्नींग वाल्क करते हुए सोचा ?

बीना खाए सोचा ?

खा कर भी सोचा ?

पी कर भी सोचा ?

नहा कर भी सोचा ?

इतना सोचकर भी सोचा की इतना क्यूँ सोचा ????

कैसे सोचा ???? yaar simple दो शब्द ही तो

लीखने है

लो

u r good .....so rocking person..............

लोग कहते है की दोस्ती इतनी न करो की सर पे सवार हो जाये .
लेकिन हम कहते है की दोस्ती इतनी करो की दुश्मन को भी आप से प्यार हो जाये ..............

Popular posts from this blog

मेरी जान के गोरे हाथों पे मेहँदी को लगाया होगा

दिल चाहता है ज़माने से छुपा लूँ तुझको !