मेरी जान के गोरे हाथों पे मेहँदी को लगाया होगा


आज दुल्हन के लाल जोड़े में उसे उसके सखियों ने सजाया होगा,
मेरी जान के गोरे हाथों पे मेहँदी को लगाया होगा,
बहोत गहरा चढ़ा होगा मेहँदी का रंग,
उस मेहँदी में उसने मेरे नाम छुपाया होगा.
रह-रह के रो पड़ी होगी,
जब उनको मेरा ख़याल आया होगा,
खुद को देखा होगा जब आईने में तो,
अक्स मेरा भी नज़र आया होगा,
बहुत प्यारी लग रही होगी वो,
आज देख कर उसको चाँद भी शरमाया होगा.
आज मेरी जान ने अपने माँ बाप की इज़्ज़त को बचाया होगा,
उसने बेटी होने का हर फ़र्ज़ निभाया होगा
मजबूर होगी आज वो सबसे ज़्यादा,
सोचता हूँ किस तरह उसने खुद को समझाया होगा,
अपने हाथों से हमारे खतों को जलाया होगा,
खुद को मजबूत बना कर मेरी यादों को मिटाया होगा,
भूखी होगी वो जानता हूँ मैं,
मेरे बिना उसने कुछ न खाया होगा,
कैसे संभाला होगा खुद को,
जब उसने फेरों में खुद को जलाया होगा
आज दुल्हन के लजाल जोड़े में उसे उसकी सखियों ने सजाया होगा...

Comments

Shyam Nath said…
Wow.......
Rula diya yaar ........!!!
Sonu SRC said…
Thanks For Commenting Dude
meApoet said…
beautiful poem..... No words to describe it !
Anonymous said…
Bhut khub bhai.....
Haste hue chand ka tukda ho tum,
Khilte hue gulab say khwab ho tum,
Tum ho ek bhang sa nasha,
Tum ho bas ek tum hi ho...
Harash Mahajan said…
वाह .....अति सुंदर
Beenit kumar said…
Kuch Cheezein Hum Purani Chhod Aaye,
Aate Aate Uski Aankhon Mein Paani Chhod Aaye,
hello friends here you can read Hindi Shayari. and Urdu Shayari

if you want read romantic shayari Click Here.

Popular posts from this blog

दिल चाहता है ज़माने से छुपा लूँ तुझको !