माँगा था प्यार में ज़िंदगी तुम से

 
एक एक कदम पे इतने इम्तिहान किस लिए
इतने सारे दर्द, और एक इंसान,किस लिए.
सब के अंदर अच्छा बुरा दोनों मौजूद हैं
अक्सर जीत जाता है शैतान किस लिए
मेरा नहीं है सब कुछ, है तेरा दिया हुआ
हो जाता है फिर किसी को गुमान किस लिए
माँगा था प्यार में ज़िंदगी तुम से,
पर दिया तूने प्यार में मौत किस लिए

Comments

DEFA said…
really this is a fantastic blog sir!!!!!!!!!

Popular posts from this blog

मेरी जान के गोरे हाथों पे मेहँदी को लगाया होगा

दिल चाहता है ज़माने से छुपा लूँ तुझको !